हॉकी के भीष्म पितामह “अमर” हो गए

जिस राष्ट्रीय खेल, हाकी, को हम क्रिकेट के कारण भूलते जा रहे हैं, उस खेल की सेवा में PT सर का योगदान अद्वितीय है| मंदसौर के सेंट थॉमस स्कूल के स्पोर्ट्स टीचर श्री अमरसिंह जी ने ना सिर्फ अपने स्कूल में पढ़ने वाले छात्रों को खेल से जोड़ा बल्कि…

२००० का नोट – “धोखा”, “स्कैम” या “होशियारी”

२००० का नोट - "धोखा", "स्कैम" या "होशियारी" सरकार ने जो विमुद्रीकरण का कड़ा कदम उठाया है उसकी चारो और प्रशंसा हो रही है । भारत ही नहीं विदेशो में भी इस पर चर्चा हो रही है । कई देश अब इस पर विचार कर रहे है की उन्हें भी इस तरह के कदम उठाने…

रिलायंस डिफेंस राफाल डील – सच झूठ और प्रोपोगंडा

फ्रेडरिक नीत्शे ने एक बार कहा था "दुनिया में कुछ भी पूर्ण तथ्य नहीं है , केवल व्याख्याएं हैं"। जर्मन दार्शनिक और सांस्कृतिक आलोचक की यह बात वर्तमान राजनीतिक परिदृश्य में एकदम सटीक बैठती है। आजकल अनंत जानकारी एक उंगली के इशारे पर उपलब्ध…

धन्यवाद पाकिस्तान ! एक बुद्धिजीवी की कलम से

धन्यवाद पाकिस्तान । साधुवाद । मन कर रहा है तेरे आतंकियों के चरणों को छू लू जैसे की नरेंद्र मोदी ने नवाज़ शरीफ़ की माँ के छुए थे । तूने मुझ पर जो एहसान किया है उससे में जज्बाती हो गया हूँ । अगर फ़िल्मी अंदाज़ में कहूँ तो वह इस प्रकार होगा…

मुझे मेरे १५ लाख़ दे दो मोदीजी

मुझे मेरे १५ लाख़ दे दो मोदीजी मैं बोखलाया हुआ व्यक्ति हुँ | २०१४ के चुनाव में मैं आपकी पार्टी के खिलाफ था । मैं आपके समर्थको का उपहास करता था । उन्हें भक्त कहकर खूब मजे लेता था । मैं बचपन से ही बुद्धिजीवियों को पढ़ता आया हूँ ,…

क्या मनमोहन असल में “मौन” थे ?

क्या मनमोहन असल में "मौन" थे ? मशहूर गणितज्ञ पाइथागोरस ने कहा था की इसका खेद मुझे अनेक बार हुआ कि मैं बोल क्यों पड़ा । शायद हमारे पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह जी को इस बात का काफी अच्छा ज्ञान था। और इसलिए उनका तथाकथित मौन उनके चरित्र का…

भारत के विकास का रोड़ा नकारात्मक राजनीति

२०१४ के चुनाव ने कई बाते जाहीर कर दी । इसने सबसे बड़ी बात ये साबित कर दी है की अब देश विकास की राह पर चलने को तैयार है । लोगों ने मोदी को वोट दिया हो या मोदी के खिलाफ वोट दिया या फिर वोट ही ना दिया हो पर हर कोई यह देखने को जरूर उत्सुक था की…
Powered By Indic IME
error: Content is protected !!