Browsing Tag

किसान

ख़ुद को दिया धोखा …

ख़ुद को दिया धोखा … इस गणतंत्र दिवस,किसान वाकई बेबस ?लिया देश को डस,रहा विश्व है हँस ! शर्मसार हुई दिल्ली,उड़ी बहुत है खिल्ली,क्या यही आज़ादी ?की बहुत बर्बादी । तिरंगे की मर्यादा,सीना छलनी, है काटा,देश टुकड़ों में बांटा,नम आज विधाता ।
error: Content is protected !!