अजय महिया छद्म रचनाएँ – 3

ये मासूम निगाहें,ये मासूम चेहरे,ये मासूम सी अदाएं ।
जाने कब, कैसे‌ खो गए उनकी जुल्फों के तराने ।।
हर चेहरा मुस्कान बिखेर रहा था उस दिवार मे ।
पता नहीं कहां खो गए वो मौसम पुराने

संगीतकार & गीतकार अज़य महिया

गर्दिशों की उड़ती गर्द मेरे अन्जुमन मे आ गिरी ।
सोचा अफ़साना हुआ है कुछ पर आफ़त आ गिरी ।।
सुनहरे सपने देखता रहता था मै रोज गुमसुम सा ।
उसकी यादों की आराईश मेरे हृदय मे आ गिरी।।

संगीतकार & गीतकार अज़य महिया

ओ सखी! हम तो इस कदर चोट खाए बैठे थे
तुमने आकर हमारा जख्म भर दिया ।
इस दर्द-ए-दिल की क्या दवा होती है
गुफ़्तगू ने तुम्हारी मुझे तैरना सीखा दिया

संगीतकार & गीतकार अज़य महिया

सादगी मे तेरी कयामत बिखर जाए
‌ रो दो तुम तो बारिश हो जाए
हम तो चलते हैं तेरी ज़ुदाई लेकर
‌ सिर्फ एक कप चाय हो जाए

संगीतकार & गीतकार अज़य महिया

दिल तो‌ दिवाने‌ देते‌ है साहब‌
हम तो शायर है केवल नजाक़त देते है

संगीतकार & गीतकार अज़य महिया

सड़क के‌ एक तरफ मै और दूसरी तरफ वो खड़ी थी।
शायद वो मुझे कुछ कह रही थी और मै सुन नही पा रहा था ।

संगीतकार & गीतकार अज़य महिया

एक खुशी अपनी जिन्दगी मे‌ पाई है मैने ।
इश्क की किताब से दूरियां बनाई है मैने ।।
क्या पूछते हो हमे ए दोस्त‌।।
तुम्हारी मौहाब्बत से ज़ुदाई तो पाई है मैने।।

अजय महिया – इश्क का राही

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

error: Content is protected !!