दादी कहानी सुनाओ ना !!

दादी कहानी सुनाओ ना !! दादी मां दादी मां कहानी एक सुनाओराजा रानी घोड़ा गाड़ी की बातें बतलाओआवाज तुम्हारी है मीठी मन को मेरे भाती हैहर बार नई कहानी दादी आप कहां से लाती हैं? हल्के से मुस्काके बोलीं दादी प्यार जाता के बोलींचिल्लम

कलम – (कविता) अभिनव कुमार

कलम ✍🏻 छोटी बहुत ये दिखती है, प्रबल मग़र ये लिखती है,बड़ों बड़ों को पार लगादे, इससे उनकी खिजती है । ये हालात लिखती है, शीशे जैसी दिखती है,जैसी बाहर वैसी अंदर, सच से इसकी निभती है । उसूलों पर ही चलती है, बिल्कुल भी ना

डॉ. नील रतन अग्रवाल ने ‘द इंटरनेशनल ब्रेक-थ्रू रिसर्च अवार्ड’ प्राप्त किया।

डॉ. नील रतन अग्रवाल ने अपने शोध "एन् एट्टेम्प्ट् टो  ऱेवेर्से बिओ-एन्जिनेअर् आस्त्मा बाई होम्योपैथिक टिंचर्स " ("An Attempt to Reverse Bio-engineer Asthma By Homeopathic Tinctures")  के लिए 'द इंटरनेशनल ब्रेक-थ्रू रिसर्च अवार्ड' (‘The

सुना है फिर चुनावी बादल छाने लगे हैं।।

सुना है फिर चुनावी बादल छाने लगे हैं।।---------- सारे नेता आजकल गाँव में आने लगे हैं।सुना है फिर चुनावी बादल छाने लगे हैं। गड्ढों वाली सड़कों में टल्ले चिपकाने लगे हैं।दीवारों को साफ करके चूना लगाने लगे हैं।हाथ में झाड़ू पकड़ कर फ़ोटो

मैं सही या ग़लत ?

मैं सही या ग़लत ? मैं ग़लत, मैं ग़लत,मैं ग़लत, मैं ही ग़लत । कहां करूं बोलो दस्तख़त !अब पार हुई है हर हद । कल तक थी तुम्हें मेरी लत,आज हूँ ख़ामख़ा कमबख़्त । मैं हूँ झूठ, तुम ही हो सच,नहीं चाहता मैं जाना बच । तुम थे ढाल, तुम मेरे

मैं नई दुनिया निर्माण करूंगा

मैं नई दुनिया निर्माण करूंगा नहीं चाहिए कोई विरासत ना धर्म और न कोई आफतचारों तरफ मचा कोलाहल मैं इसमें शांति बहाल करूंगामैं नई दुनिया निर्माण करूंगा…. बच्चा बच्चा होता सच्चा जो पका नहीं वो होता कच्चाक्या है जीवन क्या उद्देश्य मैं इसकी

रवि के पास – शुभम शर्मा

रवि के पास… (रवि अर्थात सूर्य) सर्द सासें ओला बनके हैं जहन में बह रहींमन की गर्मी बाजुओं में बौखलाहट कर रहीरुक चुकी बहती पवन अब तो बस हिमपात हैले चलो मुझको वहां तुम जो रवि के पास है….. शांत मन है जोश उत्तम हृदय में आघात हैहै मजे में

कान्हा…धरा पर जल्दी आना

कान्हा…धरा पर जल्दी आना द्वापर युग,अवतरित युगपुरूष,कान्हा जन्म,माह भाद्रपद ।। ८ देवकी से उत्पन्न,अवतार विष्णु भगवन,यशोदा माँ ने पाला,गोकुल नंद लाला ।। १३ अद्भुत बाल्यकाल,शक्तियाँ अपार,राक्षसों का वध,सटीक उद्देश्य पर ।। १० अदम्य

असमंजस – अब बस …

असमंजस - अब बस … तुम भी सही,मैं भी सही,ग़लत बात फ़िर,किसने कही ? दिल की बात,दिल ही में रही,मैं हूँ वही,मैं था वही । ताने बाने बस,बुनते रहे,सिर्फ कमियां ही,चुनते रहे । रही सही कसर,गलतफहमियां खा गईं,जाने कैसी !रिश्तेदारी निभा गईं ।

फ़र्क देखिए (1) बनाम (2) में ज़मीन आसमान का

फ़र्क देखिए (1) बनाम (2) में ज़मीन आसमान का :- (1) "चलो आज मुस्कुराते हैं" - तालिबानी गुनगुनाते हैं,दहशत बड़ी फैलाते हैं, निर्दोष मारे जाते हैं,औरतों पे ज़ुल्म ढाते हैं, आबरू भी ढहाते हैं,वे कल को भूल जाते हैं, बस

अफ़ग़ानिस्तान तालिबान से कहे …

अफ़ग़ानिस्तान तालिबान से कहे … सोचता था मैं पहले कि तुम,मेरे रक्षक, मुझको घेरे हो,आज मग़र अहसास हुआ कि,तुम तो निकले सौतेले हो । दहशत, दर्द, ज़ुल्म, आतंक,ना जाने क्या क्या दे रहे हो,पाल पोस तुम्हें बड़ा किया,तुम बने मेरे ही लुटेरे हो ।

कैसे कह दूं कि तुम नहीं मेरे हो !

कैसे कह दूं कि तुम नहीं मेरे हो ! … कैसे कह दूं कि तुम नहीं मेरे हो !तुम मेरे नहीं, पर मेरे हो,ज़रूरी नहीं कि बन्धन हों, फ़ेरे हों,तन जुदा हैं, पर मन में तो ठहरे हो,रूहें तृप्त जब रिश्ते गहरे हों ।

जय हिंद …

जय हिंद … सैनिक है बैठा सीमा पर,सिर्फ़ तेरी मेरी ख़ातिर,मैं और तू तो हैं घर पर,वो जैसे एक मुसाफ़िर । अपनी तो जान बचाने की,ना उसको कोई है परवाह,एक मैं और तू ही लड़ते हैं,क्या मंदिर, मस्जिद, दरगाह ! सबकुछ तो उसने त्यागा है,देशभक्ति ना

पन्द्रह अगस्त‌ की उस गाथा को, हम यूं ही नहीं गाते हैं।।

बहुत कठिन था वो दौर,जिसको आज हम याद करते हैं ।पन्द्रह अगस्त‌ की उस गाथा को,हम यूं ही नहीं गाते हैं।। मंगले पांण्डे चढा फांसी पर,लक्ष्मी बाई के हम दिवाने है ।पन्द्रह अगस्त‌ की उस गाथा को,हम यूं ही नहीं गाते हैं।।

स्वतंत्रता – वरदान या अभिशाप

स्वतंत्रता - वरदान या अभिशाप … गुमसुम नादान,अचंभित हैरान,बांहें फैलाए,खड़ा हर इंसान । आया यकायक याद,हुई आज आबाद,है मेरा दिवस,मेरी वर्षगांठ । आज़ादी इतराई,थोड़ा मुस्काई,थी चेहरे पे,रंगत जो छाई । वो हिन्द की जान,उसका ईमान,छीनने से

भारत का शेर – नीरज चोपड़ा

भारत का शेर … नीरज चोपड़ा,गाँव का छोकरा,किया तिरंगा ऊंचा,हिन्द खुशी से रो पड़ा । जीता दिल,प्रदर्शन उत्कृष्ट,हासिल स्वर्ण पदक,बदली पुरानी रीत । सोने की चिड़िया,के माथे पे बिंदिया,याद करेंगी,शतकों तक पीढ़ियां । उठाया भाला,बड़ी दूर

गिल्लू – कहानी

गिल्लू की खूबसूरती के क्या कहने ! मनमोहक चेहरा, छोटे , तिकोने और पैने कान, दो प्यारी -सी आंखें जैसे चेहरे में दो काले मोती जड़े हों , नन्हा - सा मुँह और उसके अंदर आरी से भी तेज़ दांत , स्लेटी रंग का शरीर, उसपर काली सफ़ेद धारियां ,

आदमी (कविता)

आदमी कहीं खो गया है आभासी दुनिया में आदमीझुंठलाने लगा है अपनी वास्तविकता को आदमीपरहित को भूलकर स्वहित में लगा है आदमीमीठा बोलकर ,पीठ पर वार करता है आदमीचलता जा रहा है सुबह शाम आदमीपता नहीं किस मंजिल पर पहुँच रहा है आदमीअपनी तरक्की की परवाह

जीवन – कविता

जीवनरोने से क्या हासिल होगाजीवन ढलती शाम नहीं हैदर्द उसी तन को डसता हैमन जिसका निष्काम नहीं है ।। यह मेरा है ,वह तेरा हैयह इसका है ,वह उसका हैतोड़ फोड़ ,बाँटा -बाँटी का ,गलत इरादा किसका हैकर ले अपनी पहचान सहीतू मानव है ,यह जान सहीदानवता

एक लड़की की कहानी

एक लड़की की कहानी एक लड़की जो सच में बहुत खूबसूरत थी।मानो जैसे संगमरमर की जागती मूरत थी। उसके साथ हर पल उसके बहुत अपने थे।उसकी खुली आंखों में भी बहु बड़े सपने थे। वह भी एक दिन आगे बढ़ना चाहती थी।हवाओं के साथ आजाद उड़ना चाहती थी।
error: Content is protected !!