छद्म रचनाएँ – सहज सभरवाल

यूँ मांगिये मत,देने की चाह रखिए।यूँ दीजिये मत,दान सहित, रईस दिल का इम्तिहान रखिये।हानि एवं मुनाफे दोनों से अनुभव प्रप्त कीजिए,ज़रूरत करने पर लागू कीजिए ।Sahaj Sabharwal, Jammu

भारतीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी

भारतीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी हमारे देश के लिए हैं ये एक वरदान,कार्य जो भी करते होते हैं प्रधान । सबसे प्यारा इन्हे है अपना वतन,इनके लिए भारत है अनमोल रत्न । सभी नियमों का पालन करते और करवाते, वह भी बहुत सख्त,देश की

इसी गंदगी का करना है अंत

लो आ गया नया ज़माना, स्वच्छ भारत बन गया है एक बहाना। क्या भारत की स्वच्छता का इरादा ,टूट रहा है यह स्वच्छ भारत का वादा। सैलानी हैं आते यहाँ, दिखती है गंदगी देखें जहाँ । क्या वैष्णो देवी की

हमें भगवान क्यों नहीं मिलते ?

हमें भगवान क्यों नहीं मिलते ? आज प्रतिभाशाली और कलात्मक लोगों द्वारा विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में विकास से भरी दुनिया है। इस दुनिया में विभिन्न प्रकार के लोग रहते हैं। उन सभी को, प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से रचनात्मक ईश्वर
error: Content is protected !!