पेशाब में दर्द और जलन के लक्षण और इलाज

0

पेशाब में दर्द और जलन के लक्षण और इलाज

यह कई कारणों से हो सकता है। पहला, मूत्राशय, या जननांग अथवा किडनी में बैक्टीरिया या फंगस का संक्रमण (कुछ मामलों में वायरस का संक्रमण भी हो सकता है)। दूसरा, बिनाइन प्रोस्टेट हाइपरट्रॉफी और प्रोस्टेट कैंसर।

इसके लिए घरेलू इलाज में आपका ज्यादा से ज्यादा पानी पीना (कम से कम आठ लीटर प्रति दिन) जरूरी है। पानी के अलावा आप छाछ, लस्सी, नारियल पानी, जूस, नींबू पानी आदि पी सकते हैं।

इसके अलावा, आप कचनार की छाल उबालकर, अर्जुन के पेड़ की छाल उबालकर पी सकते हैं या करौंदे के कच्चे फल खाने से आपको चमत्कारिक रूप से आराम मिल सकता है। इसके अलावा, आप जननांगों में नारियल तेल की मालिश करें। इससे फंगस के संक्रमण में आराम मिलता है। आप वहां दही की मालिश भी कर सकते हैं। दही के बैक्टीरिया भी रोगाणुओं से लड़कर उसे खत्म करने में अपनी भूमिका निभाते हैं।

यह समस्या कैंडिड ग्रुप के फंगस के कारण सबसे ज्यादा होता है। यह वही फंगस है, जिसके कारण मुंह के छाले भी गंभीर रूप ले सकते हैं। अगर आपके मुंह में इसका संक्रमण है तो आपको इसके जननांगों में संक्रमण की संभावना भी बढ़ जाती है। खासकर गर्मियों के दिन में, डिहाइड्रेशन होने पर। इलाज में देर न करें, क्योंकि यह संक्रमण किडनी तक फैल सकता है या आपको सेप्सिस हो सकता है। ऐसे में डायलिसिस की जरूरत पड़ सकती है और किडनी फेल भी हो सकती है।

बिनाइन प्रोस्टेट हाइपरट्रॉफी और प्रोस्टेट कैंसर का कोई घरेलू इलाज नहीं है। इसमें प्रोस्टेट कोशिकाएँ बढ़कर मूत्रनली को बंद कर देते हैं। बिनाइन प्रोस्टेट हाइपरट्रॉफी कैंसर नहीं होता। लेकिन इसमें भी कोशिकाएँ तेजी से बढ़ती हैं। इसके लिए और प्रोस्टेट कैंसर के लिए चिकित्सक ही तय कर सकते हैं कि आपका शल्यचिकित्सा, कीमोथेरेपी या रेडिएशन में से किस विधि से इलाज किया जाए। इसके पहले, आपकी समस्या कैंसर के कारण है या बीपीएच के कारण, ये तय करने के लिए PSA (प्रोस्टेट स्पेशिफिक एंटीजन) की जांच और बायोप्सी (ऊतक की जाँच) की जाती है। बीपीएच होने पर अगर अवरोध ज्यादा नहीं हो तो आल्फा ब्लॉकर्स (प्रेजोसीन, टेराजोसिन, डोक्साजोसीन, टेम्सूलोसिन इत्यादि) और फिनास्टेराइड तथा ड्यूरेस्टेराइड इत्यादि दवाइयाँ दी जा सकती हैं और अगर अवरोध ज्यादा हो तो टीयूआरपी, विस्तृत शल्यचिकित्सा, लेज़र थेरेपी, हीट थेरेपी आदि का उपयोग किया जाता है।

धयान पूर्वक पढ़ें –Healthy kaise raheयहाँ पर हम आपको बतायेंगे कि दिमागी और शाररिक तरीके से कैसे फिट रहे!

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Powered By Indic IME
error: Content is protected !!