तुम्हारा हिस्सा – कहानी शिल्पी प्रसाद

तुम्हारा हिस्सा "सुनो, क्रेडिट कार्ड शायद तुम्हारे वालेट में रह गया।" मां आधे रास्ते पहुंच गई थी। अपने घर वो लोग तकरीबन ४-५ बजे तक पहुंच जाएंगे। मेरे पूछने पर कि और क्या-क्या रह-छूट गया, वो थोड़ी भावुक हो गईं थीं। इतने महीने वो मेरे

प्रेम है, बसंत हैं।

प्रेम है, बसंत हैं। राह तकती है पंखुड़ियांतितलियों कीजानती है वे बैठ बालियों परपराग निचोड़ उड़ जाएंगीफिर भी जाने क्योंउन्हें आस रहता सदावे आ कर फूलो बढ़ता बोझसोख़ बसंत खिलाएंगी। नीली पाखी चहकते-मटकतेआ बैठी फिर ठूंठ परतिनका दबाए

किस्से

किस्से,कुछ किताबीकुछ खयाली,पन्नों के बीचठूंठ पत्तियों की तरह,बेजान और अंजान,चेतना केनिचले सतह सेतैरकरमन की शिथिलसतह कोउद्विग्न करतेचले जाते है। किस्से,कुछ किताबीकुछ खयाली।

बेमतलबी बचपन

बेमतलबी बचपन बातें थी,बेमतलब, बेख़ौफ़बेवजह, बकवास। बचपन था,बेसब्र, अल्हड़हैरान-परेशान, मासूम। दोस्ती थी,सुकून, शरारतीबगावती, मनमौजी। सोचती हूं, आज बचा है क्या हैबस, छुटपन की कुछ यादेंआम का पेड़, कैरीगपशप वाला टूटा-जर्जर

लॉन्ग डिस्टेंस वाली सोहबत

लॉन्ग डिस्टेंस वाली सोहबत आजकल‌ एक अलग इश्क़ जी रही हूंलौंग डिस्टेंस में रहकर नजदिकियों वालीं कविताएं लिख रहीं हूं।अच्छा, ये भौगोलिक दूरियों वाली सोहबत क्लिशे सी लगे शायदपर क्या खाएं, कहां गए, किस से मिले..से आगे की बातें भी बुन रही

मिलन को रास रचाता हों

नज़रों की सीमा से मीलों उपरकोई गीत मिलन के गाता हों। जहां सूरज बातें करता होंबिखरी रोशनी समेटता हों। धरती भी अलसाती होंबादल ओढ़ लजाती हों। चांद बीच आ जाता होंजलन में मुंह बिचकाता हों। शाम ढले सब प्रीत लिएमिलन को रास रचाता हों।।

दहलीज़ – कविता – शिल्पी प्रसाद

कुछ किताबें उन मांओं पर लिखी जानी चाहिए,जिनके दिन चुल्हें के धुएं की धुंध बनकर रह गए।एक पन्ना भी मन का न नसीब आया जिनके।। एक-आधा गीत उनके द्वंद्व की भी गढ़ी जानी चाहिए,महिमा मय नहीं, खांस-खांस खाट पर निढाल हुई जो पट गई।दम निकलते वक्त

और जब मोहब्बत का रुख़ बदलेगा..

और जब मोहब्बत कारुख़ बदलेगाअपनी दिखावट सेअपने होने भर केअहसास मेंतब,अपनी कहानी केसबसे प्रभावशाली औरमुख्य किरदार आपस्वयं होंगे। ©शिल्पी

विरह – कविता -शिल्पी प्रसाद

तुम जान लो,मैं जानती हूंये बातों की लड़ीजो स्वाभाविक आजमेरी जीवन कीशैली हो गई है,यह आदत एक रोज़हवा में घुलपिघल जाएगीऔर, पीछे रह जाएगीमेरी पीड़ा,तुम बिन मिलेविरह मिल जाएगा मुझे। ~शिल्पी
मेरी राय ऍप MeriRai App 😷

अब अपने पसंदीदा लेखक और रचनाओं को और आसानी से पढ़िए। मेरी राय ऍप डाउनलोड करे | 5 Mb से कम जगह |

error: Content is protected !!