बेमतलबी बचपन

बेमतलबी बचपन

बातें थी,
बेमतलब, बेख़ौफ़
बेवजह, बकवास।

बचपन था,
बेसब्र, अल्हड़
हैरान-परेशान, मासूम।

दोस्ती थी,
सुकून, शरारती
बगावती, मनमौजी।

सोचती हूं, आज बचा है क्या है
बस, छुटपन की कुछ यादें
आम का पेड़, कैरी
गपशप वाला टूटा-जर्जर अड्डा,
और भीड़ में गुम,
इधर मैं, उधर तुम।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

मेरी राय ऍप MeriRai App 😷

अब अपने पसंदीदा लेखक और रचनाओं को और आसानी से पढ़िए। मेरी राय ऍप डाउनलोड करे | 5 Mb से कम जगह |

error: Content is protected !!