आखिर क्यों पुतिन यूक्रेन चाहते है

यही कारण है कि पुतिन यूक्रेन चाहते हैं: यूक्रेन रैंक यूरेनियम अयस्कों के सिद्ध पुनर्प्राप्ति योग्य भंडार में यूरोप में पहला;टाइटेनियम अयस्क भंडार में यूरोप में दूसरा और दुनिया में 10 वां;मैंगनीज अयस्कों के खोजे गए भंडार में दुनिया

कविता-बचपन

कविता-बचपन कल की ही बात थी वो,जब गुड्डे-गुड्डियों‌ का खेल था ।बस.. वो ही यह दिन था,जिसमे बचपन का मेल था ।। वो आए,तुम गए,तुम आए,वो गए,फिर से सब आए ।काश वो घरौंदे बनाने, बचपन वाले दिन फिर आए ।। वो माँ की गौद मे खेलना ,फिर उठकर भाग

तुम्हारा हिस्सा – कहानी शिल्पी प्रसाद

तुम्हारा हिस्सा "सुनो, क्रेडिट कार्ड शायद तुम्हारे वालेट में रह गया।" मां आधे रास्ते पहुंच गई थी। अपने घर वो लोग तकरीबन ४-५ बजे तक पहुंच जाएंगे। मेरे पूछने पर कि और क्या-क्या रह-छूट गया, वो थोड़ी भावुक हो गईं थीं। इतने महीने वो मेरे

प्रेम है, बसंत हैं।

प्रेम है, बसंत हैं। राह तकती है पंखुड़ियांतितलियों कीजानती है वे बैठ बालियों परपराग निचोड़ उड़ जाएंगीफिर भी जाने क्योंउन्हें आस रहता सदावे आ कर फूलो बढ़ता बोझसोख़ बसंत खिलाएंगी। नीली पाखी चहकते-मटकतेआ बैठी फिर ठूंठ परतिनका दबाए

आया वसंत

मन में उमंगतन में तरंगखिल उठे रंगभर भर उमंगआया वसंत !आया वसंत !! सृष्टि मचलखिले पुष्प दलकरवट बदलभर भर उमंगआया वसंत !आया वसंत !! नई राह चुनकोई साध धुनसंधान करभर भर उमंगआया वसंत !आया वसंत !! बँधनो को तोड़ केउलझनों को छोड़ केआरम्भ

किस्से

किस्से,कुछ किताबीकुछ खयाली,पन्नों के बीचठूंठ पत्तियों की तरह,बेजान और अंजान,चेतना केनिचले सतह सेतैरकरमन की शिथिलसतह कोउद्विग्न करतेचले जाते है। किस्से,कुछ किताबीकुछ खयाली।

अभिनव कुमार – छद्म रचनाएँ – 7

जिसका भी बस चल रहा है,वो रंग बदल रहा है,मैंने सोचा "करूँ मैं भी प्रयत्न",मुझको मगर बुरा लग रहा है l अभिनव कुमार सबसे ऊपर दृढ़-विश्वास,पर्वत नहीं कहीं आस-पास,पूर्ण हो जब पर्वतारोहण,पाँव तले संपूर्ण पहाड़ अभिनव कुमार किसी से मैं

बेमतलबी बचपन

बेमतलबी बचपन बातें थी,बेमतलब, बेख़ौफ़बेवजह, बकवास। बचपन था,बेसब्र, अल्हड़हैरान-परेशान, मासूम। दोस्ती थी,सुकून, शरारतीबगावती, मनमौजी। सोचती हूं, आज बचा है क्या हैबस, छुटपन की कुछ यादेंआम का पेड़, कैरीगपशप वाला टूटा-जर्जर

मैं…ख्वाब…और जाम !

मैं…ख्वाब…और जाम ! चाहत की है बात नहींमैंने सब यूं ही छोड़ दियाकैसे तेरे पास रुकूंवेवजह कुछ करना छोड़ दिया जब जब मैं जाता राह अटकमैंने चांद निहारा सुबह तलकसब ख्वाब हैं मेरे चुभन भरेये जानके सबको तोड़ दिया टूटे ख्वाबों को मज़ार

मेरा कीमती उपहार

मेरा कीमती उपहार …. हाय ये कैसा भौतिकवादी युग !भोग, लालसा, धन की बस भूख,क्या चाहिए, कुछ पता नहीं,सबकुछ सम्मुख, फ़िर भी दुख । केवल दिखावे की है होड़,दौड़, दौड़, बस अंधी दौड़,रिश्ते ताक रहें हैं मुँह,अपने दिए अब पीछे छोड़ । कुछ ओर ही चाहे

अजय महिया छद्म रचनाएँ – 6

ये जो ठंडी-सर्द हवाओं की रातें है इन्हें गुज़र तो जाने दे |फिर पता चलेगा तुम्हे ,मेरी मौहाब्बत की कीमत क्या है || अजय महिया निकली हैं आँखे किसी को ढूंढने,लगता है कोई कहीं खो सा गया है |प्यासी तो पहले भी थी ,लगता है अब जिम्मेदारी का

कर्मठ बनो

कर्मठ बनो भूलना भूल जाओ सूली पर झूल जाओ,दिन देखो ना रात अभी आंखों में तुम खून लाओ,हरा भरा होगा सब जीवन बीज तुम्हारे अंदर है,चेहरा और चमन चमकेगा एक बार बस खिल जाओ। संघर्ष करो दृणता लाओ अपना घर आंगन महकाओ,जैसे रस्सी काटे पत्थर ऐसे

अभिनव कुमार – छद्म रचनाएँ – 6

ख़ुद को खुदा, तुझको जुदा है माना मैंने,सच कहूँ - ख़ुद को बिल्कुल भी ना जाना मैंने !एक अरसे बाद आज मेरी आँख खुली,केवल ठुकराया बस, ना सीखा अपनाना मैंने । ✍🏻 अभिनव कुमार मान ही गए हम तुम्हें जनाब,मंसूबों को अपने दिया

कन्यादान में दान के मायने

कन्यादान में दान के मायने मूर्खता का शिक्षा के साथ कोई संबंध नहीं है। कोई बहुत शिक्षित होकर भी मूर्ख हो सकता है। स्वयं को प्रगतिशील और आधुनिक दिखाने की होड़ में भी कुछ लोग मूर्खताएँ करते हैं। एक IAS अधिकारी हैं, जिनकी मीडिया में बड़ी

अभिनव कुमार – छद्म रचनाएँ – 5

मुझे ज़िन्दगी तुझसे शिकायतें बहुत हैं,तुझे दी मैंने हरपल हिदायतें भी बहुत हैं,आज निकला जब मैं सड़क पर,तब जाना कि तेरी मुझ पर इनायतें बहुत हैं । अभिनव कुमार तुमने बनानी चाही हमसे,हम बना ना पाए,,ग़ैरों की तो बात दूर,मेरे पास ना साए ।

लॉन्ग डिस्टेंस वाली सोहबत

लॉन्ग डिस्टेंस वाली सोहबत आजकल‌ एक अलग इश्क़ जी रही हूंलौंग डिस्टेंस में रहकर नजदिकियों वालीं कविताएं लिख रहीं हूं।अच्छा, ये भौगोलिक दूरियों वाली सोहबत क्लिशे सी लगे शायदपर क्या खाएं, कहां गए, किस से मिले..से आगे की बातें भी बुन रही

हमारी वो मासूम मां

हमारी वो मासूम मां, जिनके पास ऐसी मासूम मां हैं जिनका …… न कोई सोशल मीडिया पर अकाउंट हैं, न फोटो , सेल्फी का कोई शौक है, उन्हें ये भी नहीं पता की स्मार्टफोन का लॉक कैसे खुलता है, जिनको ना अपनी जन्मतिथि का पता है,

रोजगार की चाहत – कविता मनोज कुमार – हनुमानगढ़

रोजगार की चाहत खाली कंधो पर थोड़ा सा भार चाहिए।बेरोजगार हूँ साहब रोजगार चाहिए।जेब में पैसे नहीं डिग्री लिए फिरता हूँ।दिनोंदिन अपनी नजरों में गिरता हूँ।कामयाबी के घर में खुलें किवाड़ चाहिए।बेरोजगार हूँ साहब मुझे रोजगार चाहिए।प्रतिभा की

मनोज कुमार – छद्म रचनाएँ

कभी साथ बैठो तो पता चले की क्या हालात है मेरेअब तुम दूर से पूछोगे तो सब बढ़िया हालात है मेरेमुझे घमंड था की चाहने वाले दुनिया में बहुत है मेरेजब बात का पता चला तो उतरगये नखरें तेवर सब मेरे।। मनोज कुमार, नोहर (हनुमानगढ़) होठों पर

आसान है क्या …

आसान है क्या … आसान है क्या ?सोचो तो सब कुछ !सोचो तो कुछ भी नहीं ! चिंतन पर,सबकुछ ही निर्भर,क्या सरल, क्या है विकट ! मन:स्थिति,लिखती है विधि,बनाए बिगाड़े हर घड़ी । श्वास लेना,आसान है क्या ?कोशिश कर, सब कुछ होगा । आत्मबोध -
मेरी राय ऍप MeriRai App 😷

अब अपने पसंदीदा लेखक और रचनाओं को और आसानी से पढ़िए। मेरी राय ऍप डाउनलोड करे | 5 Mb से कम जगह |

error: Content is protected !!