ईद

ईद

ईद,
मधुर संगीत,
भाई चारे का प्रतीक,
सौहार्द की उम्मीद ।

संगम व्यास व सिंध,
एकता की ईंट,
अहिंसा की जीत,
ना शक किंचित ।

दोस्ती निश्चित,
एक दूजे का हित,
तम जाए है बीत,
सबकुछ ही विनीत ।

बड़ी पुरानी रीत,
पूर्वजों की सीख,
बदले रोज़ तारीख़,
बन साथी, बन मीत ।

हर कोई रहे जीवित,
किस बात की ज़िद ?
क्या करने चले सिद्ध ?
प्रेम प्यार की नींव ।

ना कोई भी पीड़ित,
सभी परिपक्व पुरोहित,
सबको विवेक विदित,
चले बस लहर शीत ।

पाप से सब रहित,
ना कलह, ना किटकिट,
सब ख़ुश, सब ही मुदित,
करें प्रशंसा प्रोत्सहित ।

देश तभी हो विकसित,
जब ये सब हो सम्मिलित,
गर एक भी चीज़ से वंचित,
फ़िर बस प्रायश्चित …
बस प्रायश्चित …

आशावादी प्रयास – अभिनव ✍🏻

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

Powered By Indic IME
error: Content is protected !!