आसान है क्या …

आसान है क्या …

आसान है क्या ?
सोचो तो सब कुछ !
सोचो तो कुछ भी नहीं !

चिंतन पर,
सबकुछ ही निर्भर,
क्या सरल, क्या है विकट !

मन:स्थिति,
लिखती है विधि,
बनाए बिगाड़े हर घड़ी ।

श्वास लेना,
आसान है क्या ?
कोशिश कर, सब कुछ होगा ।

आत्मबोध – अभिनव कुमार

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

मेरी राय ऍप MeriRai App 😷

अब अपने पसंदीदा लेखक और रचनाओं को और आसानी से पढ़िए। मेरी राय ऍप डाउनलोड करे | 5 Mb से कम जगह |

error: Content is protected !!