रीझ-रीझ कर खीझ रहा हूँ

रीझ-रीझ कर खीझ रहा हूँ ,

जब से जग में होश संँभाला ।

प्रेम पुरातन याद नहीं अब, 

जब से छूटा साथ तुम्हारा ।।


हम भूले तो तुम भी भूले,

हारे की मत बाट जोहना ।

हम भी तेरे, माया तेरी ,

देर नहीं, झट मिलो मोह ना ।।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

error: Content is protected !!