कविता -मै‌ लक्ष्मी दो आँगन की

कविता -मै‌ लक्ष्मी दो आँगन की

बेटी बन आई हूं मै जिस‌ आशियाने के आँगन में ।
बसेरा होगा कल किसी और घर के आँगन में ।।

क्यों चलाई ये रीत,खुदा तेरे इन साहसी बन्दों ने ।
आज़ नहीं तो कल पराई कर दी तेरे अदीबों ने ।।

जन्म हूआ तब, ना बंटी बधाई उस आंगन में ।
बसेरा होगा कल किसी और घर के आँगन में ।।

जन्म दिया पाल-पोसकर जिसने इतना बड़ा किया ।

वक्त पाकर उन्हीं हाथो ने आज मुझे विदा किया ।।

होकर विदा बहू कहलाऊं ससूराल के आंगन में ।
बसेरा होगा कल किसी और घर के आँगन में ।।

टूट कर बिखर जाते है हम बेटियों के सारे सपने ।
जो जगाते,सोते,चलते संजोए थे हमने बचपन मे ।।

कल लक्ष्मी कहलाऊंगी दूसरे घर के आंगन में ।
बसेरा होगा कल किसी और घर के आँगन में ।।

अज़य क्यों ये रिश्ते इतने अजीबो-गरीब होते हैं ?
बेटी कह क्यों किसी और के हवाले कर देते हैं ?

रो-रोकर बेहाल हुई है ये बेटी,अपने ही आंगन में ।
बसेरा होगा कल किसी और घर के आँगन में ।।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

मेरी राय ऍप MeriRai App 😷

अब अपने पसंदीदा लेखक और रचनाओं को और आसानी से पढ़िए। मेरी राय ऍप डाउनलोड करे | 5 Mb से कम जगह |

error: Content is protected !!