विरह के दीप – कविता

खुशियों के दीप जलें हैं तुम पर हरिताभा-सी छाई है |
विरहिणी की दीवार पर विरहाग्नि-सी लौट आई है ||
किससे और क्यों कहें ? इस दिले चमन की दास्तां |
हमने तो हर दिन और रात विरह के दीप जलाए हैं ||

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

मेरी राय ऍप MeriRai App 😷

अब अपने पसंदीदा लेखक और रचनाओं को और आसानी से पढ़िए। मेरी राय ऍप डाउनलोड करे | 5 Mb से कम जगह |

error: Content is protected !!