Browsing Category

देश

खेती से जुड़ी 10 सरकारी योजनाएं, जिन्हें हर किसान को होना चाहिए मालूम

खेती से जुड़ी 5 सरकारी योजनाएं, जिन्हें हर किसान को होना चाहिए मालूम प्रधानमंत्री किसान ट्रेक्टर योजना 2020जी हां दोस्तों प्रधानमंत्री किसान ट्रेक्टर योजना 2020 आप सभी के लिए एक बहुत ही अच्छा मौका लाया है जिससे आप आधे दामो पर ट्रेक्टर

भारतीय उच्च शिक्षा व्यवस्था को आइना दिखा, चुनौतियों से पार पाने का जरिया बनता कोविड़-19

भारतीय उच्च शिक्षा व्यवस्था को आइना दिखा, चुनौतियों से पार पाने का जरिया बनता कोविड़-19 (डॉक्टर मनमोहन सिंह शिशोदिया, भौतिकी विज्ञान विभाग, गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय ग्रेटर नोएड) विपत्तियां अपने साथ उससे भी बड़े अवसर साथ में लाती हैं।

हम दिहाड़ी मजदूर कहाते

कर श्रम घर का बोझ उठाते हैं जब रोज कमाते तब खाते बेबस लाचारी में ही जीवन गवांते ना खुद पढ़े खूब ना बच्चे पढ़ा पाते हम दिहाड़ी मजदूर कहाते ना सपने आंखों पर अपने सज पाते बन आंसू पलकों से वो गिर जाते लक्ष्मी सरस्वती

ये ५६ इंच का सीना है

ये ५६ इंच का सीना है ये ५६ इंच का सीना है, कोई ऐसी वैसी ढाल नहीं…ये मोदी जी का पसीना है, मेहनत की उनकी मिसाल नहीं… दुखियों से दुख को छीना है, दिल साफ है बिल्कुल चाल नहीं…ये हिन्द देश का नगीना हैं, इनके बिन गलती दाल नहीं । जो कहते

भारतीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी

भारतीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी हमारे देश के लिए हैं ये एक वरदान,कार्य जो भी करते होते हैं प्रधान । सबसे प्यारा इन्हे है अपना वतन,इनके लिए भारत है अनमोल रत्न । सभी नियमों का पालन करते और करवाते, वह भी बहुत सख्त,देश की

इरफ़ान ख़ान, हर दिल की जान

इरफ़ान ख़ान, हर दिल की जान इरफ़ान ख़ान,हर दिल की जान,एक अलग पहचान,एक अलग पहचान । ४ १९६७ में जन्में साहबज़ादेबुलंद व नेक इरादे,जो कहते, वो निभाते वादे,अमल में लाते, ना सिर्फ बातें । ८ जन्म राजस्थान जयपुर,हरदम विवादों से दूरतपकर बना

इसी गंदगी का करना है अंत

लो आ गया नया ज़माना, स्वच्छ भारत बन गया है एक बहाना। क्या भारत की स्वच्छता का इरादा ,टूट रहा है यह स्वच्छ भारत का वादा। सैलानी हैं आते यहाँ, दिखती है गंदगी देखें जहाँ । क्या वैष्णो देवी की

अब बहुत हुआ – स्वदेशी अपनाओ

अब बहुत हुआ 130 करोड़ भारतीयों तक पहुंचाये. कोरोना महामारी ने बहुत नुकसान कर दिया मानव जाति का. CoronaStat.org वेबसाइट के अनुसार से अप्रैल 27 तक दुनिया में 30 लाख से ज्यादा लोगों संक्रमित हो चुके हैं. 2 लाख से अधिक मौतों. पर ये

मैं आपका कश्मीर :-

मैं आपका कश्मीर :- आज मैं आज़ाद हूं ३७० की बेड़ियों से,आज मैं आज़ाद हूं अलगाववादी भेड़ियों से… दशकों से ही मैं था आतुर मिलने हिन्द महान से,मात-पिता से बिछड़ा हुआ था बिछड़ा अपनी जान से… आज ही सही मायनों में मेरी पहली आज़ादी है,आज

खाड़ी देशों में तेल के दामों में लगातार गिरावट और भारत की अर्थव्यवस्था

खाड़ी देशों में तेल के दामों में लगातार गिरावट और भारत की अर्थव्यवस्था मेरे मन में पिछले कई दिनों से कुछ विचार अपने आप को इस बाहरी बहुमुखी प्रतिभावानो से परिपूर्ण इस दुनिया के सामने प्रस्तुत होने को व्याकुल हो रहा था । अतः आज मैं अपने

भगवान परशुराम जी की महिमा

भगवान परशुराम जी की महिमा करें स्वीकार नमन भगवान परशुराम, त्रेता व द्वापर युग में अवतरित नाम । 2 रामायण, भागवत पुराण, महाभारत और कल्कि पुराण । 4 इन ग्रन्थों में उनके उल्लेख, परशुरामजी के रूप अनेक । 6 देवराज इंद्र का था

बुद्धिजीवी …. तकनीकी खराबी …

बुद्धिजीवी …. तकनीकी खराबी … कुछ बुद्धिजीवी,देश के करीबी । आज मुझसे उलझ गए,दिए जलने से पहले ही बुझ गए । बेवजह की हो गई बहस,जैसे कुछ कर दिया हो तहस नहस । मुझसे रहा ना गया,मैंने बस उन्हें यही कहा । तैयार हैं ना भाई साहब ?नौ

हमारा सहयोग – अभिनव कुमार

हमारा सहयोग सरकार को दें हम सब शाबाशी,मेहनत मशक्कत अच्छी खासी,पूरा भारत, ना सिर्फ़ हांसी,ना बीमारी, ना हो खांसी । सरकार कर रही दिल से प्रयत्न,कोशिश ना फैले, विषाणु हो ख़त्म,ना हों सामाजिक, ना अभी जश्न,अपने में हो अभी हर कोई मग्न ।

आपसा देश भक्त ना उत्पन्न अब तक

आपसा देश भक्त ना उत्पन्न अब तक …. माननीय प्रधान मंत्री,जन सेवक, भले मानस, संतरी । आपको कुछ बताना है,मैंने भी अब ठाना है । आप उन्हें भाते नहीं,कभी रास उनको आते नहीं,आप मगर अडिग है,कभी भी घबराते नहीं । उन्होंने आपको कभी नहीं

पृथ्वी दिवस – अनीश कुमार

आज 22 अप्रैल पृथ्वी🌏 दिवस के उपलक्ष्य में मैं अपने विचार आप लोगों के साथ साझा करने जा रहा हूं| "पृथ्वी" इस शब्द का उच्चारण हम मानव जाति जितनी सरलता और सुगमता से करने में सक्षम हैं उतने ही अबोध, असमर्थ और अपरिपक्व इसके महत्व को

प्रार्थना – आए सद्बुद्धि

प्रार्थना - आए सद्बुद्धि… सन्यासी "साधु",है देश का जादू । संस्कृत का शब्द,तन में जैसे रक्त । तप की मिसाल,संस्कृति की ढाल । त्याग का जीवन,सम हरदम है मन । सामान्य अर्थ 'सज्जन व्यक्ति',ईश्वर की अनथक भक्ति । मूल उद्देश्य

पांच का जादू

पांच का जादू वो २२ मार्च,वो बजे थे पांच । शाम का आगाज़,कुछ अलग और ख़ास । वो पांच मिनट,गए शिकवे सिमट । लाखों के पल,जैसे मिल गया हल । एक अलग ही जोश,हर तरफ संतोष । थी कृतज्ञता,कुछ भी ना खता । आभार किया व्यक्त,जो हैं

लॉक डाउन २.०

लॉक डाउन २.० चौदह अप्रैल दो हज़ार बीस,माननीय प्रधान मंत्री जी की स्पीच । देश के नाम संबोधन,पहुंचा हर जन तक । कई बड़ी और अहम बातें,क्या क्या कहा, हम हैं बताते ! उनकी बातों को संजोया,माला में है पिरोया । ज़रा कीजिए ध्यान,रचना

कोरोना : घर बैठे कमाइए के नाम पर चल रहे फ्रॉड प्लान

कोरोना : घर बैठे कमाइए के नाम पर चल रहे फ्रॉड प्लान ज्यादातर फ्रॉड प्लान पहले से चल रहे थे | अभी इनकी संख्या और काम करने की गति बहुत तेज़ हो गयी है| यह एक गंभीर चिंता का विषय है | Kamaiye.com विश्व आर्थिक मंदी की तरफ कुछ समय से भाग

इस महिला दिवस , गृहणियों को क्यू नेटवर्क मार्केटिंग से जुड़ना चाहिए 

इस महिला दिवस , गृहणियों को क्यू नेटवर्क मार्केटिंग से जुड़ना चाहिए नेटवर्क मार्केटिंग या मल्टी-लेवल-मार्केटिंग (MLM) एक ऐसा माध्यम है जिसमें मार्केटिंग कंपनियां अपने उत्पादों के बेचने के लिए नेटवर्क बनाते है |ये एक ऐसा
Powered By Indic IME
error: Content is protected !!