शॉर्ट-कट का ज़माना है…

शॉर्ट-कट का ज़माना है…

शॉर्ट-कट का ज़माना है,
लम्बा माने पकाना है,
वक्त नहीं है व्यर्थ का,
काम की बात पे आना है ।

फेस बुक है, व्हाट्स ऐप्प है,
आई पैड और टैब हैं,
सोशल मीडिया एक्टिव हैं,
फ़िर भी कितने गैप हैं ।

शो-ऑफ की होड़ है,
पैसे की ही चौड़ है,
सतयुग में तू नहीं है प्यारे,
कलयुग का ये दौर है ।

सब कुछ ऑटोमैटिक है,
सुबह शाम ही पिकनिक है,
जिसकी पैकिंग मन-लुभावन,
हाथों-हाथ जाता वो बिक है ।

स्मार्ट-वर्क की मांग है,
रैप के चलते सांग हैं,
महनत वाला लाइन में पीछे,
वो कहलाता रॉन्ग है ।

हो गए हम एडवांस हैं,
लिव-इन है, रोमांस है,
एक टके की सेंस नहीं है,
सेल्फिश हाड़ का मांस है ।

झांकने का अब ना मन है,
दीमक है, खोखलपन है,
बेगानों से प्यार जताते,
अपनों से तो अनबन है ।

Related Posts

चाहिए चीज़ इम्पोर्टेड है,
अनगिनत ही नीड हैं,
आता जाता कुछ ना है पर,
करना हमको लीड है ।

करते बहुत ही केअर हैं,
जाने कितनी लेयर हैं !
ऊपर से ही चाहे लेकिन,
कहते हम “आई स्वेअर” हैं ।

ज़्यादा हो गए प्रैक्टिकल हैं,
एक्सक्यूज़ हैं, एक्ज़ैम्पल हैं,
फैशन-वैशन बहुत करें पर,
जतलाते कि सिंपल हैं ।

कहने को हम नूर हैं,
पास हैं, ना कि दूर हैं,
सीधे-सीधे क्यूँ नहीं कहते !
फॉर्मेलिटी से मजबूर हैं ।

दूजे दिल में बसते हैं,
कितने तंज ही कसते हैं,
ऊपर से है सहानुभूति,
अंदर कितना हंसते हैं ।

सीधे जैसे जलेबी हैं,
हम कितने ही फ़रेबी हैं,
दूसरे के ही दम पर हमने,
अपनी रोटियां सेकी हैं ।

एक नहीं कोई दोषी है,
सारे ही संतोषी हैं,
छींटा-कशी से ही हमारी,
ऊर्जा री-चार्ज होती है ।

स्वरचित – अभिनव ✍🏻
(कवि का इरादा किसी की भावनाओं को ठेस पहुंचाना कतई नहीं है 🙅🏻‍♂️। ये व्यापक रूप से लिखी गई कविता है, जो समाज में निरर्थक आडंबरों की झलक से रूबरू करवाती है ।)

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

error: Content is protected !!