रवि – कविता -अक्षी त्रिवेदी

रवि

शब्दों से रचा हुआ खेल कभी,
कहाँ किसिको समझ में आया हैं,
दूर से सब देख रहा वो,
पर कभी क्या समझाने आया हैं?

मन से विचलित होकर वो भी,
कहीं अपनी काया काली न कर जाए,
देख रहा है वो तो कलयुग,
कहीं इसका दर्शक न बन जाए।

डर लग रहा बस इसी बात का,
कहीं वो हमसे दूर न चला जाए,
अगर दूर हो गया तो,क्या पता?
हम भी कहीं गुम न हों जाए।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

मेरी राय ऍप MeriRai App 😷

अब अपने पसंदीदा लेखक और रचनाओं को और आसानी से पढ़िए। मेरी राय ऍप डाउनलोड करे | 5 Mb से कम जगह |

error: Content is protected !!