बस अभी अभी तो

बस अभी अभी तो….

अभी सूरज ढला
अभी चांद आ गया
रात आंखों में थी
मैं बोतल में आ गया

अभी थे तारे खिले
अभी प्रभात आ गया
अभी बस आंख खुली कि
जुवां पे उसका नाम आ गया

  • शुभम शर्मा ‘शंख्यधार’

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

मेरी राय ऍप MeriRai App 😷

अब अपने पसंदीदा लेखक और रचनाओं को और आसानी से पढ़िए। मेरी राय ऍप डाउनलोड करे | 5 Mb से कम जगह |

error: Content is protected !!