रोहित सरदाना – अश्रुपूर्ण भावभीनी श्रद्धांजलि अभिनव

रोहित सरदाना,
शख़्स जाना माना,
कहीं चला गया,
पता नहीं कहां !

था बड़ा सटीक,
छवि बेहद निर्भीक,
देता था सीख,
ना दहाड़, ना चीख़ ।

देखे सुने बिन,
ना कहता था,
जो कहता था,
रस बहता था ।

Related Posts

स्पष्ट वक्ता था,
सब परखता था,
जब हँसता था,
बड़ा जचता था ।

गज़ब था वो,
इसमें नहीं शक,
उसकी मांग,
शायद नभ पर ।

काया चाहे रही,
उसकी आज तक,
यादें रहेंगी पर,
जन्मांतर तक । ✍🏻

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

error: Content is protected !!