जिस प्यार पे हमको बड़ा नाज था

कविता : जिस प्यार पे हमको बड़ा नाज था …

जिस प्यार पे हमको बड़ा नाज था

क्या पता था वो अन्दर से कमजोर है

जिन वादों पे हमको बड़ा नाज था

क्या पता था कि डोर उसकी कमजोर है ||

करूँ किसकी याद ,जो तसल्ली मिले

रात के बाद आती रही भोर है

जिक्रे गम क्यों करें ,कोई कम तो नहीं

थोड़े नैना भी उसके चितचोर हैं||

इतना दूर न जाओ कि मिल न सके

प्यार की उमंगें ,हवा में बिना डोर है

वो छिंडकते हैं नमक ,मेरे हर ज़ख्म पर

क्या पता था कि सोंच ,कैद उनकी दीवारों में है

जिस प्यार पे हमको बड़ा नाज था

क्या पता था वो अन्दर से कमजोर है ||

रोशनी हो गई अब ,तीरगी की तरह

पास आकर मिलो ज़िन्दगी की तरह

गम के लम्हे मुझे जो उसने दिये

उनको जीता हूँ मैं ,अब ख़ुशी की तरह||

प्यार के वादों का ,उसपे कोई असर ही नहीं

उसकी फितरत है बहती नदी की तरह

बेवफाई का जिस दिन से खेल खेला गया

अपने लोगों में मैं रहा अजनबी की तरह||

वक्त के दलदलों ने बदला चलन देखिये

मुहब्बत भी पिघलती बर्फ की तरह 

सोंचता हूँ कहाँ दम  लेगी ज़िन्दगी

कुछ खटकता है दिल में कमी की तरह||

जिस प्यार पे हमको बड़ा नाज था

क्या पता था वो अन्दर से कमजोर है

जिन वादों पे हमको बड़ा नाज था

क्या पता था कि डोर उसकी कमजोर है ||

नाम : प्रभात पाण्डेय

p6.jpg

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

error: Content is protected !!