मेरा कीमती उपहार

मेरा कीमती उपहार ….

हाय ये कैसा भौतिकवादी युग !
भोग, लालसा, धन की बस भूख,
क्या चाहिए, कुछ पता नहीं,
सबकुछ सम्मुख, फ़िर भी दुख ।

केवल दिखावे की है होड़,
दौड़, दौड़, बस अंधी दौड़,
रिश्ते ताक रहें हैं मुँह,
अपने दिए अब पीछे छोड़ ।

कुछ ओर ही चाहे मेरा मन,
ना वैर द्वेष, ना दोगलापन,
धैर्य, विवेक कीमती उपहार,
सब्र, हर्ष से आवे आनंद ।

विकास की बदल गई परिभाषा,
विषयी विलास जग को है लुभाता,
चाहे तंज कसे कोई मुझपर,
सादगी ही मेरा नज़राना ।

अभिनव कुमार ✍🏻

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

मेरी राय ऍप MeriRai App 😷

अब अपने पसंदीदा लेखक और रचनाओं को और आसानी से पढ़िए। मेरी राय ऍप डाउनलोड करे | 5 Mb से कम जगह |

error: Content is protected !!