जीएसटी क्या है? जीएसटी से क्या सस्ता क्या महंगा

जीएसटी (गुड्स एवं सर्विस टैक्स) जो कि एक अप्रत्यक्ष कर है जीएसटी इस समय देश का चर्चित मुद्दा है क्योंकि जीएसटी को 1 जुलाई से लागू किया जाना है। जीएसटी के तरत वस्तुओं और सेवाओं पर समान रुप से टैक्स लगता है जीएसटी से पूरा देश एकीकृत बाजार में…

हिंदी की दुर्दशा के लिए कौन जिम्मेदार।

हिंदी भारत की राजभाषा है। राजभाषा किसी भी संघ या राज्य द्वारा अपने सरकारी कामकाज के लिए स्वीकार की गई भाषा होती है। राजभाषा देश के अधिकांश लोगों द्वारा बोली और समझी जाती है राजभाषा किसी प्रदेश में एक से अधिक भी हो सकती है प्रांतीय भाषाओं के…

महिलाएं अपने अधिकारों के प्रति जागरुक हो

प्राचीन काल से ही भारतीय समाज में महिलाओं की स्थिति संतोषजनक नहीं रही है। पुरुष सत्तात्मक समाज हमेशा से महिलाओं को केवल भोग विलास की वस्तु समझता आया है और महिलाओं को घर में चारदीवारी तक रखना ही अपना बड़प्पन समझा जाता है। हालांकि लोगों में…

कुछ कहने को तो है मेरे पास भी…

कुछ कहने को तो है मेरे पास भी… कुछ कहने को तो है मेरे पास भी… पर कोई सुनने वाला नहीं मिला… सोचे शायद कोई अजनबी ही हाले दिल सुन लेग लहरों का शोर इतना बढ़ गया... की खामोशियों से नाता टूटता चला गया... किसी के साथ ऑडी में पेट्रोल…

नोटबंदी के बाद से अब विद्वानों को धनीजनों से किनारा कर लेना चाहिए

नोटबंदी के बाद से अब विद्वानों को धनीजनों से किनारा कर लेना चाहिए  विद्वान जन जो बहुत ही पढाई-लिखाई में बहुत ही तेज-तरार हुआ करते थे। वे 1950 से लेकर 1992 तक किसी धनीजन के साथ नहीं उठा-बैठा किया करते थे। तब समाजवाद था, समाजवाद में हर…

|| प्रेमी की भक्ति – यक्ष प्रश्नोत्तर।।

|| प्रेमी की भक्ति - यक्ष प्रश्नोत्तर।। भगवान् में गहरी आस्था रखने वाले एक भक्त को प्यार हो जाता है और अपनी प्रेमिका के प्रेम में भाव विह्वल होने के कारण दुनियादारी से सुध-बुध खो देता है । दिन रात उसके दिल-ओ-दिमाग में सिर्फ उसकी…

[कविता] मैंने बहुत याद किया – बृजेश यादव

एक प्रेमी युगल की काफी दिन के बाद बात हुई...तो प्रेमिका ने प्रेमी से पूछा क्या किया इतने दिन??? तो प्रेमी ने अपना हाल किस तरह वयां किया...पढ़िएे मित्रों.... उसने मुझसे पूछा कि क्या किया इतने दिन? मैंने…

बजट २०१७ का अर्थव्यस्था पर असर

बजट २०१७ का अर्थव्यस्था पर असर वित्तीय वर्ष २०१७-२०१८ के लिए जब वित्त मंत्री श्री अरुण जेटली ने बजट पेश किया तो सबसे ज़्यादा देश की आर्थिक राजधानी मुम्बई की नज़र उन पर लगी थी | और बजट अभिभाषण के बाद यह कहा जा सकता है कि बजट आशावादी तो है…

बजट २०१७ उम्मीदों पर कितना खरा उतरा ?

बजट २०१७ उम्मीदों पर कितना खरा उतरा ? आज के राजनितिक परिवेश में सरकार का कोई भी निर्णय उम्मीदों के मापदंड पर केवल एक ही तरह से तौला जाता है कि आप किस दल के समर्थक हैं , यदि आप सत्ताधारी दल के समर्थक हैं तो बजट आपको बहुत बेहतर और ऐतिहासिक…

क्या और क्यों भारत में मुद्दे अंग्रेजी मीडिया ही तय करती है ?

भारत जैसे अद्भुत देश में मीडिया एक अहम किरदार निभाता है क्योंकि इस विशाल देश के हर कोने में हर क्षण कुछ न कुछ घटित होता है. चाहे कोई नई उपलब्धि हो या कोई राजनीतिक घटना , एक मीडिया ही है जो हमें उससे सम्बंधित जानकारी पहुंचाती है. इस…

भारत में पत्रकारिता का गिरता स्तर

यह बात बिलकुल सत्य है कि एक पत्रकार और उसकी पत्रकारिता अपनी कठिन मेहनत से समाज में घटित हो रही घटना से हमें रूबरू करवाते है. माध्यम बेशक टलीविजन पर दिखाई जाने वाली खबरें हो या आपके हाथों में आने वाला रोज का अखबार और आज तो हमें ज्यादातर…

चार पंक्तिया

हमने चार पंख्तियाँ क्या लिख दीं लोगों ने कवि बना दिया भरे बजार में हाले-दिल का तमाशा बना दिया घर से निकले तो थे कि तुझे भुला देंगे लिख लिख कर दिल से यादों को मिटा देंगे पर आशिकों के इस बाजार ने तेरी यादॊं को हि बाजारू बना दिया…

बच्पन के दोस्त हुए पुराने

बच्पन के दोस्त हुए पुराने रोज सुबह झूलते हुए स्कूल बस में आंखे मलना दोस्तों के साथ मिलकर क्लास में हुल्लड़ करना शाम को गली क्रिकेट का सिलसिला हुआ अफ़साना बच्पन के दोस्त हुए पुराने.... ....और, E.M.I का चक्कर हुआ चालू A.C. आफ़िस…

नोटबंदी से भारत की अर्थव्यवस्था पर असर

8 नवंबर २०१६ को भारत के प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने काला धन और भ्रष्टाचार के खिलाफ़ एक अनोखा युद्ध आरंभ करते हुए ५०० और १००० के नोटों को पूरी तरह से रद्ध करने का फ़ैसला सुनाया था. नोटबंदी के इस फ़ैसले के लगभग ५० दिन बाद भी लोगों की…

२००० का नोट – “धोखा”, “स्कैम” या “होशियारी”

२००० का नोट - "धोखा", "स्कैम" या "होशियारी" सरकार ने जो विमुद्रीकरण का कड़ा कदम उठाया है उसकी चारो और प्रशंसा हो रही है । भारत ही नहीं विदेशो में भी इस पर चर्चा हो रही है । कई देश अब इस पर विचार कर रहे है की उन्हें भी इस तरह के कदम उठाने…

रिलायंस डिफेंस राफाल डील – सच झूठ और प्रोपोगंडा

फ्रेडरिक नीत्शे ने एक बार कहा था "दुनिया में कुछ भी पूर्ण तथ्य नहीं है , केवल व्याख्याएं हैं"। जर्मन दार्शनिक और सांस्कृतिक आलोचक की यह बात वर्तमान राजनीतिक परिदृश्य में एकदम सटीक बैठती है। आजकल अनंत जानकारी एक उंगली के इशारे पर उपलब्ध…

धन्यवाद पाकिस्तान ! एक बुद्धिजीवी की कलम से

धन्यवाद पाकिस्तान । साधुवाद । मन कर रहा है तेरे आतंकियों के चरणों को छू लू जैसे की नरेंद्र मोदी ने नवाज़ शरीफ़ की माँ के छुए थे । तूने मुझ पर जो एहसान किया है उससे में जज्बाती हो गया हूँ । अगर फ़िल्मी अंदाज़ में कहूँ तो वह इस प्रकार होगा…

मुझे मेरे १५ लाख़ दे दो मोदीजी

मुझे मेरे १५ लाख़ दे दो मोदीजी मैं बोखलाया हुआ व्यक्ति हुँ | २०१४ के चुनाव में मैं आपकी पार्टी के खिलाफ था । मैं आपके समर्थको का उपहास करता था । उन्हें भक्त कहकर खूब मजे लेता था । मैं बचपन से ही बुद्धिजीवियों को पढ़ता आया हूँ ,…

एक विस्मृत क्रांतिकारी शहीद ,उदमी राम

भारतीय स्वतंत्रता आन्दोलन का इतिहासलेखन पर्याप्त शोध, जानकारी की अल्पता की वजह से अनेक क्रांतिकारियों के बलिदान, शौर्य, औेर देशभक्ति को समावेशित नहीं कर पाया या यू कहें कि, उनके त्याग ओैर बलिदान को…

जब भारतीय जनमानस आजादी के सूर्य की पहली किरण के इंतजार में था

जब भारतीय आजादी की इबादत लिखी जा चुकी और तक हों गया था कि, 14-15 अगस्त की आधी रात को भारत नये अध्याय की षुरुआत करेगा औेर एक स्वतंत्र राश्ट्र हो जायेगा तब जनमानस की उत्तेजना,…
Powered By Indic IME
error: Content is protected !!